श्रीलंका में ईस्टर के दौरान 8 बम धमाके मरने वालों का आंकड़ा 215 पहुंचा, मृतकों में 4 भारतीय श‍ामिल

0
331

श्रीलंका के कई इलाकों में ईस्टर के दौरान 8 बम धमाके हुए हैं. धमाका तीन चर्च और 4 होटल में हुआ है. घटना में मरने वाला का आंकड़ा बढ़कर 215 पहुंच चुका है.  वहीं ताजा आंकड़ों के मुताबिक घायलों की तादाद भी 500 से ज्यादा बताई जा रही है. मरने वालों में 35 विदेशी हैं. पुलिस ने कहा कि कोलंबो में सेंट एंथनी चर्च, नौगोंबो में सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोबा में एक चर्च को निशाना बनाया गया. इसके अलावा होटल शांग्री-ला, सिनामोन ग्रैंड और किंग्सबरी में भी धमाका हुआ है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्ववीट कर कि मैंने अभी श्रीलंका के विदेश मंत्री तिलक मरपाना से बात की है. उन्होंने घटना की पुष्ट‍ि की है. सुषमा स्वराज के मुताबिक, कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने जानकारी दी है कि नेशनल हॉस्पिटल ने उन्हें रविवार को हुए बम धमाकों में तीन भारतीय नागरिकों की मृत्यु के बारे में सूचित किया है. मृतक भारतीयों का नाम लक्ष्मी, नारायण चंद्रशेखर और रमेश बताया जा रहा है.

वहीं, केरल के मुख्यमंत्री पिनराई ने जानकारी दी है कि इस बम धमाके में मरने वालों में एक केरल की महिला भी शामिल है. उन्होंने बताया कि कासरगोड की रहने वाली 58 वर्षीय पी एस रसिना के शव को जल्द से जल्द वापस लाए जाने के कदम उठाए जा रहे हैं.

केरल सरकार ने श्रीलंकाई सीरियल ब्लास्ट पीड़ितों की सहायता के लिए मेडिकल टीम बनाई है. सीएम पिनाराई विजयन के निर्देश पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय ने श्रीलंका में सहायता के लिए 15 विशेषज्ञों की ये  मेडिकल टीम बनाई गई है.

गौरतलब है कि इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि मैंने श्रीलंका के विदेश मंत्री को भरोसा दिलाया है कि भारत हर तरह की मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए तैयार है. यदि जरूरत पड़ी  तो हम अपनी मेडिकल टीमों को भी भेजने के लिए  तैयार हैं.

बता दें कि रविवार शाम से पहले ही देश में कर्फ्यू लगा दिया गया है जो अगले आदेश तक जारी रहेगा. साथ ही सुरक्षा बलों को अगले 10 दिनों तक हाई अलर्ट पर रहने का आदेश दिया गया है. वहीं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है. सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि उन्हें संदेह है कि आत्मघाती हमलावर द्वारा दो चर्चों में विस्फोट किया गया है. अधिकारियों के मुताब‍िक, मारे गए लोगों में 35 विदेशी नागरिक शामिल हैं, लेकिन फिलहाल उनकी नागरिकता का पता नहीं चल पाया है. मामले में सात आरोपियों की गिरफ्तारी की बात सामने आई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here