Home Blog Page 3

आम आदमी पार्टी ने कहा राहुल गांधी कैप्टन अमरिंदर सिंह और अकाली दल किसान के बिल पर राजनीति कर रहे हैं

0

आम आदमी पार्टी ने कहा राहुल गांधी कैप्टन अमरिंदर सिंह और अकाली दल किसान के बिल पर राजनीति कर रहे हैं

स्पीकर से कहा कि जब आपने पंजाब भवन को पंजाब विधानसभा काहिस्सा बनाते हुए अंदर जाने से क्यों रोका

0

अकाली दल स्पीकर के सामने रख रहा है अपनी बात स्पीकर से कहा कि जब आपने पंजाब भवन को पंजाब विधानसभा का हिस्सा बनाते हुए मीडिया के लिए जगह नियत की है तो हमें अंदर जाने से क्यों रोका गया अकाली दल ने आज कैबिनेट मंत्रियों की किसानों के साथ पंजाब भवन में होने वाली मीटिंग पर भी उठाया सवाल

कि आखिर मंत्री बिना इजाजत के विधानसभा का हिस्सा ऐलान किए गए पंजाब भवन में मीटिंग कैसे कर सकते हैं अकाली दल को अंदर आने से रोकने वालों पर भी कार्रवाई की मांग की गई अकाली दल को पंजाब भवन में कृषि कानून को लेकर पंजाब विधानसभा के स्पेशल सत्र में अकाली दल और आम आदमी पार्टी द्वारा किए गए हंगामे पर पंजाब कांग्रेस ने किया पलटवार केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए नए खेती कानूनों को लेकर आज पंजाब विधानसभा का स्पेशल सत्र बुलाया गया है जिसमें इन बिलो के खिलाफ पंजाब विधानसभा में नए बिल पेश किए जाएंगे जिनसे इनका असर पंजाब में ना पड़े इसको लेकर जहां कांग्रेस सरकार पूरी तरह सरगरम है वहीं विपक्षी पार्टियां भी लगातार विरोध कर रही है आज आम आदमी पार्टी और शिरोमणि अकाली दल ने विधानसभा के बाहर केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए बिल की कॉपियां जलाई और फाड़ी वही विधानसभा के अंदर भी पंजाब सरकार द्वारा तैयार किए गए नए कृषि बिल के प्रारूप को देखने के लिए विपक्षी पार्टियों ने खूब हंगामा किया जिसके चलते विधानसभा का सत्र कल तक के लिए स्थगित करना वहीं पंजाब सरकार के प्रवक्ता राजकुमार वेरका का कहना है कि अकाली दल और आम आदमी पार्टी ने जो आज विधानसभा में हंगामा किया वह सिर्फ और सिर्फ एक नौटंकी है यह दोहरी राजनीति कर रहे हैं आज शाम तक इस बिल का प्रारूप तैयार हो जाएगा और कल इस को विधानसभा में पेश किया जाएगा इसलिए आम आदमी पार्टी और अकाली दल इस पर सियासत ना करें

केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए नए खेतीवाड़ी कानूनों को लेकर आज पंजाब विधानसभा का स्पेशल बुलाया गया है जिसमें इन दोनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में नए बिल पेश

0

केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए नए खेतीवाड़ी कानूनों को लेकर आज पंजाब विधानसभा का स्पेशल बुलाया गया है जिसमें इन दोनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में नए बिल पेश किए जाएंगे

जिनसे इनका असर पंजाब में ना पड़े इसको लेकर जहां कांग्रेस सरकार पूरी तरह सर गरम है वहीं विपक्षी पार्टियां भी लगातार विरोध कर रही है आज शिरोमणि अकाली दल ने विधानसभा जाने से पहले केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए बिल की कॉपियां जलाई और पंजाब विधानसभा के बाहर काफी हंगामा किया शिरोमणि अकाली दल ने पंजाब भवन के के अंदर जाना चाहते थे लेकिन उन्हें पुलिस ने पंजाब भवन के गेट के बाहर ही रोक लिया उसी को लेकर अकाली दल ने पंजाब भवन के बाहर ही धरना जारी रखा और कैप्टन सरकार के खिलाफ नारेबाजी वहीं अकाली दल ने पंजाब भवन के बाहर रोटी भी खाई और उसके बाद अपना धरना समाप्त करके पंजाब विधानसभा के पास गए और उन्हें विधानसभा पंजाब विधानसभा स्पीकर से बात की पत्रकारों की जाने की मनाही पर भी बात की :बिक्रम सिंह मजीठिया अकाली नेता

बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी को भाया बड़ा गढ़ रिजॉर्ट में सेब तोड़ना

0

बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी को भाया बड़ा गढ़ रिजॉर्ट में सेब तोड़ना -इंस्टाग्राम में डाली स्टोरी लिखा एप्पल-एप्पल एवरिव्हेर एप्पल -सेब के बगीचे में अठखेलियां कर रही हैं

शिल्पा बालीबुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी आजकल बड़ा गढ़ में सेब के बगीचे में अठखेलियां कर रही हैं। ए फार एप्पल,बी फार बड़े एप्पल और सी फार छोटे एप्पल यह कहना है शिल्पा शेट्टी का। आलू के भाव मिल रहे हैं एप्पल और इन एप्पल के साथ शिल्पा की अठखेलियां रोमांच को बढ़ा रही है। जिला कुल्लू में इन दिनों जहां बाहरी राज्यों से पर्यटकों का आना जारी है। वहीं बॉलीवुड फिल्म की शूटिंग के लिए भी कलाकार कुल्लू घाटी में पहुंचे हुए हैं। जिसके चलते यहां का साहसिक पर्यटन व सेब के बागीचों का रोमांच भी जोर पकड़ने लगा है। बॉलीवुड फिल्म हंगामा 2 की शूटिंग के लिए भी शिल्पा शेट्टी, परेश रावल सहित अन्य कलाकार घाटी में डेरा डाले हुए हैं। शिल्पा शेट्टी फिल्म की शूटिंग के अलावा अपना अन्य समय सेब के बगीचों में व्यतीत कर रही है और इन रोमांचकारी पलों को इंस्टाग्राम में शेयर कर रही है। शिल्पा ने लिखा है कि एप्पल-एप्पल एवरिव्हेर एप्पल। शिल्पा ने यह भी लिखा है कि यह बहुत सुंदर स्थल है और चारों तरफ पेड़ों में सेब ही सेब है। मैं सेब को तोड़कर खाने का आनंद लेती हूं और सेब स्वास्थ के लिए बेहद लाभकारी है। उन्होंने लिखा है कि बड़ा गढ़ रिजॉर्ट में यादगार पल बिताने का अवसर प्रदान हुआ है। शिल्पा यहां के हर एक यादगार पल को सोशल मीडिया में पोस्ट कर रही है। वहीं रिजॉर्ट प्रबंधन द्वारा बालीबुड के लोगों की अच्छी खातिरदारी की जा रही है। #shilpa #instagram #apple #himachal

स्कॉलरशिप घोटाले में अपने मंत्री को बचाने में जुटी पंजाब सरकार, निष्पक्ष जांच होः एबीवीपी 20 अक्टूबर

0

स्कॉलरशिप घोटाले में अपने मंत्री को बचाने में जुटी पंजाब सरकार, निष्पक्ष जांच होः एबीवीपी 20 अक्टूबर को चंडीगढ़ में प्रदेश स्तर का बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा चंडीगढ़।

पंजाब प्रदेश में एससी एससटी विद्यार्थियों को मिलने वाली पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम में हुए करोडों रूपये के घोटाले के आरोपी मंत्री को बचाने में पंजाब सरकार कोई कसर नहीं छोड रही है। करोड़ों रूपये के इस घोटाले के आरोपी पंजाब सरकार के मंत्री साधु सिंह धर्मसोत को पद से हटाने की मांग और इस पूरे घोटाले की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर एबीवीपी चंडीगढ़ की ओर से मंगलवार को पंजाब विश्वविद्यालय में एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया। पत्रकार वार्ता को पंजाब प्रदेश सहमंत्री दीक्षा भनोट चंडीगढ़ महानगर मंत्री अजय सूद, पंजाब विश्वविद्यालय इकाई सचिव प्रिया शर्मा ने संबोधित किया। पत्रकारों से बातचीत करते हुए दीक्षा भनोट ने कहा कि जस से यह मामला सामने आया है तब अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने पंजाब में जिला स्तर पर पंजाब सरकार की इस करतूत का विरोध भी किया और राज्यपाल को जिला अधिकारियों के द्वारा ज्ञापन देकर इसकी जांच की मांग भी की थी लेकिन जांच के परिणाम से यह साफ पता लगता है कि उस जांच को प्रभावित किया गया था। प्रदेश सह मंत्री दीक्षा भनोट ने कहा कि पंजाब के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी कृपा शंकर सरोज की रिपोर्ट ने स्पष्ट कर दिया है कि इस घोटाले में सामाजिक न्याय, सशक्तिकरण एवं अल्पसंख्यक विभाग के मंत्री साधु सिंह धर्मसोत की भी मिलीभगत है, इसलिए मंत्री को पद से हटाने के साथ-साथ घोटाले में शामिल सभी अधिकारियों को खारिज किया जाए। दीक्षा भनोट ने आगे कहा कि पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम के तहत उन शिक्षण संस्थानों को भी पैसा आवंटित कर दिया गया जिनको माननीय हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी थी। इसलिए उन सभी शिक्षण संस्थानों से पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम का पैसा वसूला जाए जिन्हें यह पैसा आवंटित किया गया है। एबीवीपी पंजाब विशवविद्यालय मंत्री प्रिया शर्मा ने कहा है कि एडीशनल चीफ सेक्रेट्री की रिपोर्ट में करीब 1 साल के घोटाले का पर्दाफाश हुआ है जो कि करीब 64 करोड़ रुपए का है । उन्होंने कहा कि अगर पिछले सालों के रिकॉर्ड की जांच की जाए तो यह घोटाला और भी ज्यादा हो सकता है। उन्होंने कहा कि साधु सिंह धर्मसोत दलित समुदाय से ही है इसके बावजूद उन्होंने दलित विद्यार्थियों के साथ अन्याय किया है। वह मंत्री पद पर रहने के काबिल नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा ही दलितों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार दलित विद्यार्थियों की शिक्षा के लिए यह पैसा पंजाब को और देश के बाकी राज्यों को भेजती है मगर पंजाब की कांग्रेस सरकार दलित विद्यार्थियों को उनके हक से वंचित रख रही है। उन्होंने कहा है कि दलित विद्यार्थी पोस्ट मैट्रिक स्कीम का पैसा लेने के लिए हर बार सड़कों पर धरने लगाते हैं मगर पंजाब की कांग्रेस सरकार के मंत्री पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम का पैसा जारी करने की बजाय उस में मिलीभगत कर घोटाले कर रहे हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद चंडीगढ़ महानगर मंत्री अजय सूद ने कहा कि इस मामले की जांच उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की देख रेख में हो। प्रदेश सचिव ने बताया के आगामी समय में पंजाब के सभी जिलों में प्रदेश सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किए जाएंगे और 20 अक्टूबर को चंडीगढ़ में प्रदेश स्तर का एक प्रदर्शन किया जाएगा और इस बात को लेकर अभावी पंजाब के कार्यकर्ता सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री के पास भी जाएंगे। उन्होंने कहा कि तब तक संघर्ष जारी रखेगी जब तक विद्यार्थियों को उनका हक नहीं मिल जाता। इस घोटाले में.शामिल लोगों को इसकी सजा नहीं मिलती। #scholarship #student

बॉडी को लेकर परेशान रहती थीं इलियाना ड्रीक्रूज बोल्ड फोटो के साथ गिनाईं कमियां

0

इन दिनों सभी बॉलीवुड (Bollywood) सेलेब्रिटीज सोशल मीडिया पर जबरदस्त एक्टिव हैं. ये सेलेब्रिटीज अपने फैंस के बीच चर्चा में बने रहने के लिए आए दिन दिलचस्प पोस्ट शेयर करते दिखाई दे जाते हैं. वहीं हाल ही में इंडस्ट्री की जानी-मानी एक्ट्रेस इलियाना डीक्रूज ( IleanaDCruz) अपने एक ऐसे ही पोस्ट को लेकर जबरदस्त सुर्खियों में आ गई हैं.

उन्होंने अपने इस पोस्ट में बोल्ड फोटो (Bold Photo) के साथ बेहद संजीदा बात कह डाली है. उन्होंने बताया कि वो हमेशा अपने लुक्स को लेकर हमेशा चिंता में रहती थीं लेकिन फिर ऐसा कुछ हुआ, जिसके बाद उन्होंने इसके बारे में परवाह करना बंद कर दिया.

 इलियाना ने इंस्टाग्राम एकाउंट पर अपनी एक बेहद बोल्ड फोटो शेयर की है. इस फोटो में वो ब्लैक स्विमसूट में पोज देती दिखाई दे रही हैं. वहीं इस फोटो के साथ खुद के बारे में ऐसा खुलासा किया है, जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे. (Photo Credit-@Ileana DCruz/Instagram)

इलियाना ने इंस्टाग्राम एकाउंट पर अपनी एक बेहद बोल्ड फोटो शेयर की है. इस फोटो में वो ब्लैक स्विमसूट में पोज देती दिखाई दे रही हैं. वहीं इस फोटो के साथ खुद के बारे में ऐसा खुलासा किया है, जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे.

उन्होंने फोटो के कैप्शन में लिखा- मैं इस बात को लेकर हमेशा चिंता में रही हूं कि मैं कैसी दिख रही हूं. मेरे हिप्स ज्यादा वाइड है, मेरी थाइज अस्थिर नहीं हैं. मेरी कमर उतनी पलती नहीं है, मेरा टमी फ्लैट नहीं है, मेरी बाहें ज्यादा झूलती हैं, मेरी नाक सीधी नहीं है, मेरे होंठ फुल नहीं हैं… मैं चिंता में रहती थी कि मैं उतनी लंबी नहीं हूं, प्रिटी नहीं हूं, फनी नहीं हूं, स्मार्ट नहीं हूं, परफेक्ट नहीं हूं.
इलियाना ने आगे लिखा- मुझे ये नहीं पता था मुझे कभी परफेक्ट होना ही नहीं था, बल्कि खूबसूरत कमियों से भरा, अलग, अजीब, यूनीक होना था.

पुलिस कार्रवाई से सरकार और बीजेपी की छवि पर आंच आई उमा भारती

0

हाथरस कांड

यूपी के हाथरस में एक दलित युवती के साथ हुए बलात्कार (Hathras Gangrape) के मामले ने अब राजनीतिक रूख अख्तियार कर लिया है. अब इस घटना पर पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि हमने रामराज्य लाने का दावा किया है, लेकिन इस घटना में पुलिस की संदेहपूर्ण कार्यवाही से आपकी (योगी आदित्यनाथ), यूपी सरकार और बीजेपी की छवि पर आंच आई है.

इस घटनाक्रम का जिक्र करते हुए शुक्रवार को उमा भारती ने एक के बाद एक कई ट्विटस किए. उमा भारती ने सीएम योगी से अपील की है कि वे मीडियाकर्मियों और राजनीतिक दलों के लोगों से पीड़ित परिवार से मिलने दें. साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना से ठीक होने के बाद मैं खुद पीड़ित परिवार से मिलने के लिए हाथरस जाउंगी.

उमा भारती ने एसआईटी जांच भी उठाए सवाल!
उमा भारती ने आगे लिखा, ‘मैंने हाथरस की घटना के बारे में देखा. पहले तो मुझे लगा कि मैं ना बोलू क्योंकि आप इस संबंध में ठीक ही कार्यवाही कर रहे होंगे. किन्तु जिस प्रकार से पुलिस ने गांव की एवं पीड़ित परिवार की घेराबंदी की है, उसके कितने भी तर्क हों लेकिन इससे विभिन्न आशंकाए जन्मती हैं. वह एक दलित परिवार की बिटिया थी. बड़ी जल्दबाजी में पुलिस ने उसकी अंत्येष्टि की और अब परिवार एवं गांव की पुलिस के द्वारा घेराबंदी कर दी गई है.’ उन्होंने आगे लिखा, ‘मेरी जानकारी में ऐसा कोई नियम नहीं है की एसआईटी जांच में परिवार किसी से मिल भी न पाए. इससे तो एसआईटी की जांच ही संदेह के दायरे में आ जाएगी.’

एम्स ऋषिकेश में भर्ती हैं उमा भारती
उमा भारती ने लिखा, ‘मैं कोरोना वार्ड में बहुत बैचेन हूं. अगर मैं कोरोना पॉजिटिव ना होती तो मैं भी उस गांव में उस परिवार के साथ बैठी होती. एम्स ऋषिकेश से छुट्टी होने पर मैं हाथरस में उस पीड़ित परिवार से जरूर मिलूंगी. उन्होंने कहा, ‘मैं बीजेपी में आपसे वरिष्ठ एवं आपकी बड़ी बहन हूं. मेरा आग्रह है कि आप मेरे सुझाव को अमान्य मत करिएगा.’

मुझे ये तमाशा पसंद नहीं मध्यप्रदेश में नहीं होगा IIfa वार्ड्स समारोह- शिवराज

0

MP में नहीं होगा iifa वार्ड्स समारोह, CM शिवराज ने कहा-मुझे ये तमाशा पसंद नहीं

कोरोना संकट (Corona) और उपचुनाव (By Election) की सरगर्मी के बीच iifa का मुद्दा फिर चर्चा में आ गया है. सीएम शिवराज सिंह ने साफ कह दिया है कि मध्य प्रदेश में iifa अवॉर्ड्स समारोह नहीं होगा. उन्होंने इसे तमाशा कह डाला. शिवराज बोले मैं iifa अवार्ड समारोह जैसे तमाशे को बिलकुल पसंद नहीं करता हूं. मध्यप्रदेश में iifa जैसे तमाशे नहीं होंगे.

कोरोना संकट काल में iifa का तमाशा नहीं
मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सरकार के iifa समारोह आयोजन का भाजपा शुरुआत से ही विरोध कर रही थी.सत्ता में आने के साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि मध्यप्रदेश में iifa अवार्ड समारोह की जरूरत नहीं है. गांधी जयंती के एक समारोह में फिर ये मसला उठा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा- कोरोना का संकट काल है. ऐसे हालात में iifa समारोह तर्कसंगत ही नहीं है. iifa जैसे तमाशे को मैं बिलकुल पसंद नहीं करता. मध्यप्रदेश में iifa के तमाशे की कोई जरूरत नहीं है. शिवराज बोले- ‘मुझे पता चला है कि करीब चार करोड़ रुपये iifa के नाम पर उद्योगपतियों से लिए गए हैं. यह सब ठीक नहीं है.’

शिवराज ने ली बैठक
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने iifa अवॉर्ड समारोह के संबंध में अधिकारियों की बैठक ली. उसमें उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी राशि उद्योगपतियों से जुटाई गई है वो अब तक विभागों के पास ही है. वो पैसा उद्योगपतियों को लौटाया जाए.

कमलनाथ ने दिया जवाब
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान के बयान का जवाब दिया है. उन्होंने साफ कहा कि iifa के लिए किसी से कोई पैसा नहीं लिया गया है. ये भ्रामक और गलत प्रचार किया जा रहा है कि कमलनाथ का कहना है कि iifa तमाशा है या नहीं इस बात का फैसला जनता करेगी.

मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार के दौरान मार्च में इंदौर में iifa समारोह होना था. लेकिन इसी बीच सत्ता पलट का खेल शुरू हो गया और कमलनाथ सरकार गिरा दी गयी. उसी दौरान कोरोना महामारी के कारण पूरे देश में लॉक डाउन शुरू हो गया. बीजेपी के सत्ता में वापसी के साथ ही iifa समारोह कैंसिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं.

जल-थल-नभ में शूटिंग के लिए  वी एम लोकेशंस की कामयाब जद्दोजहद !

0

जल-थल-नभ … शूटिंग तो कहीं भी करने की स्टोरी डिमांड हो सकती है। ऐसे में शांतिपूर्ण ढंग से पूरी ऊर्जा के साथ शूटिंग कराने के लिए टीवी सीरियल, वेब सीरीज़ या फ़िल्म का मेकर यही चाहेगा कि स्टोरी की मांग के अनुसार खूबसूरत व जरूरी लोकेशन तक कोई शख्स उसे न सिर्फ पहुंचाए बल्कि बिना व्यत्यय, बिना विघ्न के आराम से वह उसकी शूटिंग पूरी भी करा सके। अब ऐसे में आवश्यकता होती है उस लोकेशन मैनेजर व लाइन प्रोड्यूसर की जो उसकी शूटिंग का संकटमोचक बनकर शुरू से अंत तक न सिर्फ खड़ा रहेगा बल्कि अगर कोई परेशानी आ भी जाती है तो उसके लिए विघ्नों का पूरा सामना करते हुए उसकी शूटिंग पूरी कराने की क़ूवत रखता हो। 150-200 लोगों की कास्ट व क्रू की यूनिट का वह कवच-कुंडल बना रहे। कुछ ऐसी ही सेवाएं बॉलीवुड की दुनिया को दे रहे हैं वी एम लोकेशन्स के सीईओ लाइन प्रोड्यूसर व लोकेशंस के किंग विनय मिश्रा। जिनका नाम इस क्षेत्र में आज बॉलीवुड का अनुभवी व भरोसेमंद शख्सियत

के रूप में लिया जाता है। एक ऐसा शख्स जिसके लोकेशनों व उनकी टीम की जिम्मेदारी से परिपूर्ण प्रोफेशनल सर्विस ने बॉलीवुड की अकीरा, कमांडो 3, हेट स्टोरी, सनम रे सहित कई दर्जन फिल्मों, कई दर्जन सीरियलों व वेब सीरीज़ की शूटिंग को एक दिशा व जगह दी। निर्विघ्न शूटिंग पूरी कराकर सिद्ध किया कि अनुभव व मजबूत टीम ज्यादा भरोसेमंद भी होती है और उपयोगी भी। प्रस्तुत है वी एम लोकेशंस के मालिक विनय मिश्रा से हुई लम्बी बातचीत के प्रमुख अंश…

* सबसे पहले अपने बारे में हमारे रीडर्स को  कुछ बताएं ?

– उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिलान्तर्गत केराकत का मूल निवासी हूँ। शिक्षा-दीक्षा के उपरान्त पहले कोलकाता का रुख किया था। वहां  20-25 बाड़ी का काम देख रहा था। आय अच्छी थी , बावजूद इसके उस काम मे मन नहीं लग रहा था। बार-बार  लगता था कि कोलकाता की बजाय अगर  मुम्बई जाता हूँ तो सपनों की उड़ान को पंख मिलेगा, मेरा देखा स्वप्न

साकार होने में मदद मिलेगी। पहले से ही बॉलीवुड में विशेष रुचि थी। फिर एक दिन कोलकाता को आखिरी प्रणाम करके मुम्बई आ गया। यहां शुरुवात में एक बड़े व बेहद नामचीन बिल्डर के यहां फ्लैट-शॉप्स को सेल करने का काम शुरू कर दिया। पर उस बिल्डर से नहीं जमीं। मैंने वो काम छोड़ दिया व तय कर लिया कि अब कुछ ऐसा काम करूँगा जो औरों से हटकर भी हो और जो मेरे सपनों को भी पूरा करे।

* यानि कि बॉलीवुड ने अपनी ओर आकर्षित कर ही लिया ?
– हाँ, मेरे एक मित्र ने 2009 में मुझे एक प्रोड्यूसर से मिलवाया और फिर उनके संग मैंने प्रोडक्शन मैनेजर के रूप में काम शुरू कर दिया। टी वी सीरियल बड़की मलकाइन से टीवी की दुनिया में आया था। इस सीरियल के बाद सहारा 1 की सीरियल पिया का घर के प्रोडक्शन का काम सम्भाला। इसके तुरंत एक फ़िल्म मिली – जयंती भाई की लव स्टोरी। इसके बाद तो  काम चल निकला था। कभी लोकेशन मैनेजर तो कभी लाइन प्रोड्यूसर के रूप में बॉलीवुड को अपनी सेवाएं देता रहा।
* आपकी अन्य फिल्में, वेब सीरीज़ और धारावाहिक कौन से हैं जिनके लोकेशन्स की जिम्मेदारी आपने व आपकी टीम ने संभाली ?

– प्रोडक्शन के काम से मैंने कैरियर की शुरुवात की थी। जयंता भाई की लव स्टोरी, एक विलेन, हॉफ गर्लफ्रेंड, रंगरेज़ जैसे क्रिएशन से जुड़ा रहा। अकीरा, सनम रे, हेट स्टोरी, मरजावां,  पागलपंथी व खुदा हाफ़िज़ जैसी बड़े बजट की फिल्मों को हमने न सिर्फ अपनी सेवाएं दीं बल्कि बॉलीवुड में अपने लिए एक खास मकाम भी बना लिया। मुझे लोकेशन किंग कहा जाने लगा। दर्जनों फिल्मों और अनगिनत वेब सीरीज़ तथा शार्ट फिल्मों को हमने अपनी सेवाएं दीं हैं। बी एम लोकेशन के नाम से मैंने अपनी कम्पनी शुरू की थी जो इस समय दर्जनों फिल्मों व वेब सीरीज़ के लिए लोकेशन के लिए अपनी सेवाएं दे रही है। जमीन पर उत्कृष्ट लोकेशनों के लिए प्रतिबद्ध व बेहद सफल मेरी वी एम लोकेशंस कम्पनी आसमान में भी ग्राफ खींचने की दिशा में पूरा फोकस कर चुकी है। शूटिंग के लिए हेलीकॉप्टर और जहाज उपलब्ध कराने की दिशा में हमने गत 5 वर्षों से सफलतापूर्वक कार्य किया ही है। जल्द ही पवन हंस पर एक बड़े बजट की फ़िल्म के लिए एक बार फिर हेलीकॉप्टर में शूटिंग कराने के लिए हम तैयारी कर रहे हैं। हाँ एक खास बात और कहूंगा कि वेब सीरीज़ बॉम्बे डायरी आपलोग अवश्य देखिएगा। जो काम यहां पर मेरी लोकेशनों पर हुआ है वह हॉलीवुड को भी चौंका देगा।
* शूटिंग के लिए प्लेन और हेलीकॉप्टर जैसी सुविधाएं भी आपकी कम्पनी ने मुहैया कराई ?
– हाँ जी अमित जी बिल्कुल… इन फैक्ट प्लेन और हेलीकॉप्टर सेवाओं के लिये हमारी विशेष मास्टरी है। हमने अनगिनत काम यहां इसप्रकार का किया है। बॉलीवुड में युआरे के लिए प्लेन तो सीरियल इश्कबाज़, वेब सीरीज़ सेक्रेड गेम, फ़िल्म कमांडो 3, सीरियल संजीवनी इन सभी के लिए हेलीकॉप्टर व लोकेशनों के अलावा हॉलीवुड के ऑस्कर प्राप्त डायरेक्टर की फ़िल्म टैनेट – मेरी गो अराउंड के लिए भी मैंने हेलिकॉप्टर व लोकेशन जैसे सेवाएं दीं हैं।जल-थल-नभ में शूटिंग के लिए  वी एम लोकेशंस की कामयाब जद्दोजहद रही है और हमेशा हम सक्सेस भी रहे !

* क्या है ये लोकेशन की दुनिया , दर्शकों को इस बारे में अधिक नहीं पता है ?
– अस्पताल का शूट हो या किसी स्विमिंग पूल का, बंगला हो या फ्लैट अथवा झोपड़ा हो , फाइव स्टार होटल जैसी जगह , तबेला किला , भूत बंगला या गोडाउन में शूट करना हो अथवा नदी, टापू, बग़ीचा,पहाड़ , मैदान अथवा सड़क पर शूट हो । इसी तरह आसमां में प्लेन या हेलीकॉप्टर का शूट हो अथवा समन्दर में किसी क्रूज़ या बोट में शूटिंग हो, बिना लोकेशंस वालों के ये शूटिंग सम्भव नहीं है।
*  काम का जिम्मेदारियां व दिक्कतों पर भी विस्तार से बताएं ।
– कहने के लिए तो बॉलीवुड में तमाम लोग होंगे जो ऐसी सेवाएं देने के प्रयास में होंगे। पर अनुभव, कॉंटेक्ट्स, लो रेट में भी शानदार काम का जादू कैसे चला पाएंगे। रही बात जिम्मेदारियों व दिक्कतों की तो  हर आउटडोर शूटिंग के लिए बी एम सी, ट्रैफिक, पुलिस में अनेकों तरह का परमिशन निकालना, इसके बाद अगर छुटभैये नेता या लोकल गुंडों का सिरदर्द आये तो वह भी फेस करना इसी काम का हिस्सा है।
* क्या आप महत्वाकांक्षी हैं ?
– हांजी बिल्कुल, सफलता कौन नहीं चाहता। हर कोई महत्वाकांक्षी होता है। होना भी चाहिए। पर महत्वाकांक्षी होने के साथ-साथ संघर्षशील औऱ मेरी तरह कर्म वे विश्वास रखने वाला हो तो सोने पर सुहागा।

कृषि बिल के विरोध में NDA से अलग हुआ अकाली दल

0
Akali Dal left 22 years of BJP,Shiromani Akali dal quits NDA farmer bill modi ...

एनडीए से अलग हुआ अकाली दल (फोटो- ट्विटर @officeofssbadal)

शिरोमणि अकाली दल की ओर से काफी वक्त पहले से ही मोदी सरकार के जरिए लाए गए कृषि बिलों का विरोध किया जा रहा है. विरोध के चलते अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने पहले ही केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा सौंप दिया था.

मोदी सरकार की ओर से लाए गए कृषि बिल को लेकर देशभर में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं. किसानों के साथ विपक्ष भी आंदोलन कर रहा है, वहीं अब भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 22 साल पुराने गठबंधन सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने एक और बड़ा झटका दे दिया है. कृषि बिल के विरोध में शिरोमणि अकाली दल ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से 22 साल पुराना नाता तोड़ने का ऐलान कर दिया है.

शिरोमणि अकाली दल की ओर से काफी वक्त पहले से ही मोदी सरकार के जरिए लाए गए कृषि बिलों का विरोध किया जा रहा है. विरोध के चलते अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने पहले ही केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा सौंप दिया था. हालांकि, तब अकाली दल ने एनडीए सरकार को समर्थन जारी रखने का ऐलान किया था. लेकिन अब अकाली दल ने कृषि बिल के विरोध में एनडीए से अलग होने का फैसला लिया है.

अकाली दल ने कहा है कि एमएसपी पर किसानों के उत्पाद की मार्केटिंग सुनिश्चित करने के अधिकार की रक्षा के लिए वैधानिक विधायी गारंटी देने से केंद्र सरकार ने मना कर दिया. इसके कारण बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होने का फैसला करना पड़ा. पंजाबी और सिख समुदाय से जुड़े मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार की असंवेदनशीलता को देखते हुए ये फैसला किया गया है.

अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने पार्टी की कोर कमेटी में शामिल वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की. इस बैठक में एनडीए से अलग होने का फैसला किया गया. इससे पहले सुखबीर सिंह बादल का कहना था कि अकाली दल के एक बम (हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा) ने मोदी सरकार को हिला दिया है. पिछले दो महीनों से किसानों पर कोई शब्द नहीं था, लेकिन अब 5-5 मंत्री इस पर बोल रहे हैं.

वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एनडीए छोड़ने के अकाली दल के फैसले को बादल के लिए राजनीतिक मजबूरी के एक हताश फैसला करार दिया है. सीएम अमरिंदर का कहना है कि किसान बिल पर बीजेपी की सार्वजनिक आलोचना के बाद इनके पास कोई अन्य विकल्प नहीं बचा था.

हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा

इससे पहले कृषि बिल पर विरोध दर्ज करवाते हुए केंद्रीय मंत्री पद से हरसिमरत कौर बादल ने इस्तीफा दे दिया था. हरसिमरत कौर बादल केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण उद्योग मंत्री थीं. केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण उद्योग मंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद हरसिमरत कौर बादल ने कहा था कि किसान विरोधी अध्यादेशों और कानून के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है. किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन के रूप में खड़े होने का गर्व है

MOST POPULAR

HOT NEWS