ट्रांसपेरेंट PPE सूट पहन कर पुरूष वार्ड में पहुची नर्स की फोटो हुई वायरल

0
439
कोरोना वायरस के विश्वव्यापी संकट काल में इस समय डॉक्टरों और सहयोगी स्टाफ को भगवान माना जा रहा है। लेकिन कोरोना वायरस की चपेट में कई डॉक्टरों के आने से उनकी मौत भी हो गई है। इसलिए डॉक्टर सजग हो गए हैं और पीपी कीट पहनकर मास्क लगाकर अपने आप को इस संक्रमण से बचा रहे हैं और संक्रमित लोगों का उपचार कर रहे हैं। लेकिन हाल ही में एक महिला नर्स ट्रांसपेरेंट पीपीई किट पहनकर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।
रूस के एक अस्पताल में पुरुष कोरोना वार्ड में अंडर गारमेंट्स के साथ साथ पारदर्शी पीपीई किट पहने एक नर्स की सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल हो रही हैं। तस्वीर वायरल होने के बाद अब उस नर्स को अपनी नौकरी जाने का डर लग रहा है। बता दें कि इस महिला नर्स की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी जिसके बाद रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी।

एक तरफ मंत्रालय जहां नर्स के खिलाफ यूनिफार्म के नियम को तोड़ने की कार्रवाई कर रहा है तो दूसरी ओर नर्स के समर्थन में डॉक्टर और नेता उतर आए महिला नर्स के समर्थन में अस्पताल के डॉक्टर और दूसरे सहयोगी और राजनेता भी उतर आए उन्होंने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाते हुए मांग की है कोरोना वार्ड में काम करने वालों को सही पीपीई किट मुहैया कराएं उन्होंने कहा जो पीपीई किट मुहैया कराई गई है वह इतनी पतली है कि स्वास्थ्य कर्मियों को नुकसान पहुंचा सकती है।

बता दे मास्को से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित टूला मेडिकल क्लीनिक हॉस्पिटल में एक मरीज ने इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था।  नर्स ने अपनी सफाई में अस्पताल प्रशासन से कहा कि उसे इस बात का अहसास नहीं था कि उसने जो पहनी है वह ज्यादा पारदर्शी है। अस्पताल प्रशासन ने जांच के दौरान पहले कहा था कि महिला ने पीपीई किट के बीच अंडर गारमेंट पहना था लेकिन बाद में दावा किया गया कि अंडर गारमेंट्स नहीं बल्कि स्विमिंग सूट हैं। बता दे नर्स ने घटना पर सार्वजनिक रूप से बात करने से इंकार कर दिया है।

रूस के अखबार प्रावदा से बातचीत में नादिया ने कहा- मैं अपना काम कर रही थी और गर्मी के चलते मैं उसे रोकना नहीं चाहती थी। हम अपनी जान पर खेलकर मरीजों की देखभाल कर रहे हैं, जो लोग मेरे कपड़ों को देखकर असहज हो रहे हैं उन्हें शर्म आनी चाहिए। इसी अस्पताल में कम कर रहीं डॉक्टर अनस्तासिया वासिल्येवा ने कहा हमने अस्पताल से सपष्ट कहा है कि आपको नदिया को वापस लेना ही होगा। नर्स ने PPE पहना हुआ था, जिन्हें उसके सिर्फ इनर वियर नज़र आ रहे हैं उन्हें वो क्या काम कर रही है उस पर ध्यान देना चाहिए।
सोशल मीडिया कई लोग नर्स की आलोचना कर रहे हैं तो काफी लोग नर्स के सपोर्ट में भी उतर आए समर्थकों ने कहा कि चिल्लाना तो अस्पताल प्रबंधन पर चाहिए महिला नर्स गर्मी के कारण ऐसा किया होगा। जबकि कई ने कहा कि को निराशा में डूबे कोरोना वायरस के मरीजों में आशा का संचार किया। बता दे रूस में कोरोना वायरस के मामले 3,26,448 तक पहुंच गए हैं। रूस में कोरोना से अब तक 3,249 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 92,681 लोग ठीक हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here