किसान हड़ताल के शुरू होने से पहले पीछे हटे कई संगठन,1-10 जून तक हड़ताल

0
265

22 राज्यों में 1 जून से लेकर 10 जून तक बड़े पैमाने पर किसान हड़ताल होने वाली है,

कुछ जगहों पर किसानों और दुग्ध विक्रेताओं ने पहले ही इस हड़ताल से खुद को अलग कर लिया है।

 “शहर के लोगों को कुछ मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन किसानों की मांग जायज है, हम किसी को परेशान नहीं करना चाहते हैं, बल्कि शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगों को मनवाना चाहते हैं।”   किसान

 

इस हड़ताल में दूध के व्यापारियों ने हिस्सा लेने से इनकार कर दिया है और इन लोगों ने पुलिस से सुरक्षा की मांग की है क्योंकि इन्हें बंद के दौरान दूध सप्लाई के दौरान हिंसा का डर है।

हड़ताल से कुछ दिन पहले, नासिक, अहमदनगर और पुणे के किसानों के समूह ने घोषणा की है कि वे हड़ताल में भाग नहीं लेंगे।पिछले साल, किसानों ने हड़ताल के कारण भारी नुकसान उठाया था, जिसे कुछ नेताओं ने तबाह कर दिया था, हम अपने नुकसान को दोहराना नहीं चाहते हैं।  महाराष्ट्र के ज्यादातर किसान मानसून का इंतेजार कर रहें ताकि वह बुवाई का संचालन शुरू कर सकें।पिछले साल किसानों के खिलाफ 3,000 से ज्यादा मामले दायर किए गए थे और उन्हें अभी वापस लेना बाकी है। हम इस साल की हड़ताल में किसानों को शामिल नहीं करना चाहते हैं।

ऑल इंडिया किसान सभा द्वारा बुलाए जाने वाली हड़ताल में कई समूहों के शामिल न होने पर इस हड़ताल के आयोजकों का कहना है कि महाराष्ट्र के कुछ किसान नेताओं ने हड़ताल का विरोध किया है, लेकिन हम कुछ ऐसे किसान हैं कि इसका समर्थन करेंगे।

“शहरों में किसी भी तरह की कोई सप्लाई नहीं होगी, अगर कोई भी सब्जी और दूध खरीदना चाहता है तो गांव में उसका स्वागत है।  “किसान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here